यह है दुनिया का सबसे सस्ता एंटीबायोटिक - महंगी दवाएं उसके सामने है फेल

प्रकृति ने इंसान को कई चीजें तोहफे में दी हैं, जो कई महंगी दवाइयों से भी ज्यादा फायदेमंद हैं। आजकल लोग कई बीमारियों से पीड़ित होकर अपनी जान बचाने के लिए डॉक्टरों के पास जाते हैं। लेकिन वह यह नहीं जानते कि ऐसी कई प्राकृतिक चीजें हैं जो जानलेवा बीमारियों को भी ठीक कर सकती हैं। ऐसे ही एक प्राकृतिक घटक का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है।

Oregano health benefits

इस वीडियो में दुनिया के सबसे ताकतवर एंटीबायोटिक के बारे में जानकारी दी गई है। यह एक ऐसा पौधा है जिसे हर घर में लगाना चाहिए। उसका नाम Oregano ऑरेगैनो है। आपने इसे पिज्जा पर छिड़क कर खाया होगा। इसका उपयोग कई इतालवी व्यंजनों में मसाले के रूप में किया जाता है। लेकिन Oregano Health Benefits हैं कि आप हैरान रह जाएंगे।

दुनिया का सबसे ताकतवर मसाला

भारत में सर्दी और खांसी होने पर लहसुन का प्रयोग किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ओरिगैनो में लहसुन और नींबू की तुलना में 30 गुना अधिक विटामिन और खनिज होते हैं? इसके अलावा ओरिगैनो के तेल में ग्रीन टी की तुलना में 37 गुना अधिक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। इसके सेवन से कई गंभीर बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है। इनमें कैंसर से लेकर कई फंगल इंफेक्शन तक शामिल हैं।


Oregano Benefits / ओरिगैनो के फायदे

1. अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और शुगर लेवल को कंट्रोल में रखना चाहते हैं तो ओरिगैनो की पत्तियों का सेवन करें। यह चीनी खाने की इच्छा की आदत को भी तोड़ता है। इसके लिए डायबिटीज के मरीजों को अपनी शुगर को नियंत्रण में रखने के लिए ओरिगैनो का सेवन करना चाहिए।

2. हड्डियों को स्वस्थ रखने में ओरिगैनो की पत्तियां फायदेमंद साबित होती हैं। हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए कई पोषक तत्वों की जरूरत होती है। इनमें कैल्शियम सबसे महत्वपूर्ण है और ओरिगैनो की पत्तियां कैल्शियम से भरपूर होती हैं। इसके अतिरिक्त, इसमें अन्य पोषक तत्व भी होते हैं जो हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रखने में मदद कर सकते हैं, जैसे मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, जस्ता, तांबा और मैंगनीज। इसके साथ विटामिन-सी, विटामिन-ए और विटामिन-के भी पाया जाता है।

3. ओरिगैनो में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं और इसके लिए ओरिगैनो के आवश्यक तेल का उपयोग किया जा सकता है। एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित शोध में पाया गया कि इस तेल का उपयोग करने से त्वचा की सूजन को कम करने में मदद मिल सकती है। इसमें मौजूद कार्वाक्रोल पदार्थ सूजन को कम करने और अल्सर को ठीक करने में भी मदद कर सकता है।

4. ओरिगैनो की पत्तियों के फायदे कैंसर से बचाव में मदद कर सकते हैं। पोषक तत्वों से भरपूर, ओरिगैनो फाइबर का एक अच्छा स्रोत है, जो शरीर से कैंसर पैदा करने वाले विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। ओरिगैनो में थाइमोल, कार्वाक्रोल और कई अन्य कैंसररोधी गुण पाए जाते हैं। इससे कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोका जा सकता है और कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। एंटीबैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर ओरिगैनो स्तन कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को भी दूर रखता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये घरेलू उपचार कैंसर के खतरे को कुछ हद तक कम कर सकते हैं, लेकिन ये इलाज नहीं हैं। ऐसे में अगर कोई व्यक्ति इससे पीड़ित है तो उसे डॉक्टरी इलाज लेना जरूरी है।

5. ओरिगैनो का तेल दिल से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है। ओरिगैनो दिल की तेज़ धड़कन को नियंत्रित करती है और ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर समस्या से भी छुटकारा दिलाती है। यह हृदय रोग को दूर रखने में सहायक है। ऑरेगैनो एसेंशियल ऑयल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो सूजन और हृदय रोग के खतरे को कम करते हैं। साथ ही, इसमें कार्डियोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं, जो दिल को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं।

6. ओरिगैनो पाचन अंगों में पित्त रस के प्रवाह को बेहतर बनाती है। पेट दर्द में ओरिगैनो को काले नमक के साथ मिलाकर खाने से फायदा होता है। पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। एक गिलास दूध या जूस या गर्म पानी में ओरिगैनो के तेल की 2 या 3 बूंदें मिलाकर सेवन करें।

7. सर्दी, बुखार और सामान्य सर्दी के लक्षणों को कम करने के लिए ओरिगैनो का उपयोग किया जा सकता है। ओरिगैनो के आवश्यक तेल में इन्फ्लूएंजा रोधी गुण होते हैं, जो सामान्य सर्दी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता हैं।

आप इसका सेवन ऐसे कर सकते हैं

सोशल मीडिया पर इसे शक्तिशाली एंटीबायोटिक्स के इस्तेमाल का तरीका बताया गया। इसका सेवन करने के लिए एक चम्मच ओरिगैनो को एक जार में रखें और 300 मिलीलीटर उबलता पानी डालें। इसे 15 मिनट तक रखें। पीने से पहले इसमें नींबू मिला लें। इसे पीने से कई बीमारियाँ दूर हो जाती हैं। सर्दी-खांसी के अलावा कैंसर की आखिरी स्टेज में भी यह मरीज को जीवनदान दे सकता है।
Previous Post Next Post