सरकार की नई नीति के मुताबिक 5 साल पुराने मोबाइल होंगे बंद? जानिए क्या है सच्चाई

सरकार की ओर से 10 साल पुराने कार और मोटरसाइकल के लिए Scrapping policy लागू की गई है. 1 साल से ज्यादा पुराने वाहनों को Scrapping करना होगा. इसी तरह मोबाइल फोन Scrapping policy लागू की जा रही है. जिसमें आपके 5 साल पुराने फोन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी जाएगी. जिसका कारण सरकार द्वारा तय की गई विशिष्ट अवशोषण दर यानी SAR वैल्यू है।

सरकार की नई नीति के मुताबिक 5 साल पुराने मोबाइल होंगे बंद?


क्या सचमुच में 5 साल पुराने फोन बंद होंगे ?

ऐसा दावा इस वक्त सोशल मीडिया खासकर इंस्टाग्राम पर किया जा रहा है. हालाँकि, यह दावा पूरी तरह से गलत है क्योंकि सरकार ने पहले ही SAR वैल्यू का मानक तय कर दिया है। जिस पर हर स्मार्टफोन कंपनियों (smartphone companies) को विश्वास करना पड़ता है। साथ ही Smartphone Box पर SAR वैल्यू का Details भी दर्ज होता है। यह दावा दूरसंचार विभाग की ओर से किया जा रहा है। हालांकि, दूरसंचार विभाग की ओर से 5 साल पुराने फोन को बंद करने का कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। आप जब तक चाहें अपने स्मार्टफोन का उपयोग कर सकते हैं।

क्या ये नियम नया है ?

मोबाइल फ़ोन से कितना विकिरण उत्सर्जित होता है? इसे SAR वैल्यू से जाना जा सकता है. इस प्रकार, प्रत्येक डिवाइस के लिए अलग-अलग SAR मान निर्धारित किए गए हैं। हालाँकि, यह आम तौर पर स्वीकार किया जाता है कि किसी डिवाइस का SAR मान 1.6 W/Kg से अधिक नहीं होना चाहिए। यह कोई नया नियम नहीं है. इसे भारत सरकार द्वारा 1 सितंबर 2013 को लागू किया गया था। ये नियम मोदी सरकार के आने से पहले का है.

SAR वैल्यू कैसे चेक करें

किसी भी डिवाइस की SAR वैल्यू फोन बॉक्स पर दी गई होती है लेकिन अगर आपके पास बॉक्स नहीं है तो आपको स्मार्टफोन पर *#07# डायल करना होगा। इस तरह आप SAR वैल्यू की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

Previous Post Next Post