TrendzPlay कैसे तय करे इंजेक्शन हाथ में लगेगा या कमर में? जानिए इसके पीछे का लॉजिक | Trendz Play


कैसे तय करे इंजेक्शन हाथ में लगेगा या कमर में? जानिए इसके पीछे का लॉजिक

हम जब भी डॉक्टर के पास जाते हैं तो Injection लेने का थोड़ा सा डर लगता है। एक सवाल जो मन में आता है कि डॉक्टर Injection हाथ में देंगे या कमर में? आपने देखा होगा कि मरीजों को यह चुनने की आजादी नहीं है कि शरीर के किस हिस्से में Injection लगाया जाए। यही डॉक्टर तय करता है कि Injection हाथ में लगेगा या कमर में।

कैसे तय करे इंजेक्शन हाथ में लगेगा या कमर में



तो अब सवाल उठता है कि ऐसा क्यों है? क्या कमर और हाथों की सुइयां अलग-अलग हैं? या डॉक्टर के पास जो है उसके अनुसार वे आपको Injection लगाएंगे। क्या यह आपकी बीमारी से निर्धारित होता है? या मामला और रहस्यमय है? आइए इस सवाल का जवाब अपने लेख में देते हैं।

क्या आपको हाथ और पैर में खालीपन होता है? तो करें ये उपाय

इस स्थिति में हाथ में Injection दिया जाता है

तथ्य यह है कि Injection आपके हाथ में या कमर में लगेगा, यह उस दवा से निर्धारित होता है जिसे आप Injection दे रहे हैं। हाथ को केवल उसी प्रकार के Injection दिए जाते हैं, जिसमें उसमें मौजूद तरल रक्त में आसानी से समा जाता है। इसे आसान शब्दों में माइल्ड Injection भी कहते हैं। इसे हाथों पर लगाने से शरीर में कोई परेशानी नहीं होती है।

कमर में दिए जाते हैं ऐसे Injection

कमर में ऐसे Injection लगाए जाते हैं जो आपके खून से आसानी से नहीं मिलते। इस प्रकार का द्रव मिलाने पर रोगी को दर्द हो सकता है। इस तरह के Injection आपकी पीठ के निचले हिस्से में दर्द को कम करने के लिए दिए जाते हैं। अगर गलती से हाथ में Injection लगा दिया जाए तो इस प्रकार के Injection से बहुत दर्द हो सकता है। कुछ मामलों में हाथ हमेशा के लिए काम करना भी बंद कर देता है।

यदि इस तर्क को चिकित्सा भाषा में समझाया जाए तो हाथ के Injection में कम सांद्रता होती है यानी पतला तरल। इसे Hypotonic Injection कहा जाता है। पीठ के निचले हिस्से में Injection का मतलब उच्च सांद्रता और गहरे रंग का होना भी है। कुछ गहरे रंग के तरल पदार्थ हैं। इसे Hypertonic Injection कहा जाता है। Hypotonic Injection दर्द को कम करते हुए, रक्तप्रवाह में आसानी से समा जाता है। Hypertonic Injection को खून के साथ मिलने में भी समय लगता है। प्रक्रिया भी दर्दनाक है, यही वजह है कि कमर में ऐसे Injection दिए जाते हैं।

उम्मीद है अब तक आप हाथ और कमर में Injection लगाने का लॉजिक समझ गए होंगे। अब जब आप डॉक्टर के पास जाएं तो इस बारे में उनसे बहस न करें और उन्हें अपना काम करने दें। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें।

बिना इंटरनेट के इस्तेमाल करें WhatsApp - जानें आसान तरीका

Health Insurance: बदलती जीवनशैली के चलते भारत समेत दुनिया भर में गंभीर बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं. इसके अलावा हर साल स्वास्थ्य खर्च भी तेजी से बढ़ रहा है. ऐसे में इलाज को लेकर आने वाले खर्च के चलते वित्तीय सेहत न खराब हो, इसके लिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी (Insurance Policy )लेना बेहद जरूरी है

Health insurance more affordable for you through various monthly payment options and discounts provided by our Partners

Note :

Be sure to consult a doctor before adopting any health tips. Because no one knows better than your doctor what is appropriate or how appropriate according to your body


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Disclaimer:
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "कैसे तय करे इंजेक्शन हाथ में लगेगा या कमर में? जानिए इसके पीछे का लॉजिक"

Post a Comment