क्या आप गर्म पानी से नहाते है ? नुकसान जानकर आपभी बंद कर देंगे

Ayurveda कहता है कि कभी भी गर्म पानी (Hot Water) से स्नान (Bath) नहीं करना चाहिए। नहाने के लिए हमेशा ठंडे पानी (Warm Water / Cold Water) का इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि ठंडे पानी का तापमान सामान्य होता है, यह शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है। लेकिन आपको गर्म पानी का इस्तेमाल तभी करना चाहिए जब आप ठंडे पानी से नहा सकें।

garam pani se nahane ke nukshaan

ऐसे में गर्म पानी भी शरीर के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन तभी जब आप इसका इस्तेमाल पीने के लिए करते हैं। गर्म पानी पीने से (Drink Hot Water) शरीर स्वस्थ रहता है। लेकिन नहाने में गर्म पानी का इस्तेमाल करने से शरीर में कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं।

आयुर्वेद कहता है कि जब आप अपने सिर पर गर्म पानी डालते हैं, तो आप मानसिक (और शारीरिक बीमारियों सहित 100 से अधिक खतरनाक बीमारियों को आमंत्रित करते हैं। सर्दियों के दौरान ज्यादातर लोग केवल गर्म पानी का उपयोग करते हैं, खासकर महाराष्ट्र में लोग सर्दियों में गर्म पानी के बिना स्नान नहीं कर सकते हैं।

इन बातों को जानकर अगर आपको गर्म पानी से नहाने की आदत है तो आप परेशान हो जाएंगे लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं है। आइए आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताते हैं, जिसके बाद आप गर्म पानी से नहाने पर भी बीमारी से दूर रह सकते हैं।

जब भी नहाने जाएं तो शरीर के सिर पर गर्म पानी न डालें क्योंकि सिर और आंखों पर गर्म पानी डालने की आशंका रहती है। इन दोनों भागों पर कभी भी गर्म पानी नहीं डालना चाहिए। ठंडे पानी का इस्तेमाल सिर्फ आंखों और सिर पर ही करना चाहिए। दिन में भी जब भी आप अपना चेहरा धोएं तो ठंडे पानी का ही इस्तेमाल करें। सर्दियों में ज्यादा ठंडा होने पर आप गुनगुने पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कई लोगों का मानना ​​है कि सर्दियों में ठंडे पानी से नहाने से सर्दी-जुकाम हो जाता है। लेकिन ऐसा होता नहीं है. ठंडे पानी और ठंडे का कोई लेना-देना नहीं है। सर्दी उन लोगों को होती है जिनका पेट साफ नहीं होता है। अगर आपके शरीर में दर्द यानि हड्डी या मांसपेशियों में दर्द है तो आपको पहले ठंडे पानी से और फिर गर्म पानी से नहाना शुरू करना चाहिए, इससे आपको शरीर के दर्द से राहत मिलेगी।


अगर आपको हाई बीपी, बुखार, डायरिया, यूरिनरी डिजीज, कब्ज जैसी बीमारियां हैं तो आपको दिन में ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए। इसके अलावा यदि आपको नेत्र रोग, कुष्ठ रोग, अपच, मधुमेह है तो आपको थोड़ा-थोड़ा करके पानी पीना चाहिए। अगर आपको मधुमेह के कारण बार-बार पेशाब आना पड़ता है, तो पानी से ज्यादा दूध पिएं।
Previous Post Next Post