20 लाख की लागत से पक्षियों के लिए बना आलीशान बंगला - देखे यहाँ

जेतपुर तालुका के एक नवी सांकली गाँव के किसान भगवानजीभाई रूपापरा ने एक बंगला बनाया है जिसमें दस हज़ार Bird (पक्षी) रह सकते हैं। उसे यह सोचने की जल्दी थी कि Birds (पक्षियों) का क्या होगा जब ठंड, भीषण गर्मी और मूसलाधार बारिश इंसानों को परेशान कर रही थी। उन्होंने यह आइडिया घरवालों के सामने पेश किया और उन्होंने परिवार के मोभी के इस आइडिया की सराहना भी की। इतना ही नहीं, उनके बच्चे इसके लिए भुगतान करने को तैयार हैं।

20 लाख की लागत से पक्षियों के लिए बना आलीशान बंगला - देखे यहाँ

भगवानजीभाई ने बिना किसी इंजीनियर की मदद के 2500 मटके से 140 फीट लंबा, 70 फीट चौड़ा और 40 फीट ऊंचा शिवलिंग के आकार का मंच बनाया है। इसके लिए वांकानेर से दो प्रकार के छोटे और बड़े मटके का विशेष आर्डर दिया गया जिसकी कीमत लगभग 20 लाख थी। Bird House (पक्षीघर) के लिए उन्होंने 2500 मटके बनाए जो कभी नहीं टूटेंगे और Gram Panchayat द्वारा दिए गए भूखंड में अपने संसाधन के अनुसार काम करते रहे। मूल गैल्वनाइज्ड बोर पाइप ने बर्तनों को बांधने के लिए स्टील के तारो का उपयोग करके गोल बर्तनों के लिए एक सीमा बनाई, जो कभी नहीं टूटती है, और मानसून के दौरान बिजली के विशेष तारों को बनाया जाता है, ताकि बिजली गिर जाए, ताकि अंदर Birds (पक्षियों) को परेशान न किया जा सके।

जबकि हमने पक्षियों के प्रति प्रेम के बारे में कई बातें सुनी हैं, जेतपुर तालुका के नवी सांकली गांव के किसान भगवानजीभाई रूपापारा ने एक बंगला बनाया है जिसमें दस हजार पक्षी रह सकते हैं। जबकि कड़ाके की ठंड, भीषण गर्मी और मूसलाधार बारिश में इंसानों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, लेकिन अबोल पक्षियों का क्या होगा, यह सोचकर उसने यह जाल उठाया। उन्होंने यह विचार परिवार के सामने रखा और उन्होंने परिवार के मोभी के इस विचार का स्वागत भी किया। इतना ही नहीं उनके बच्चे इसके लिए पूरा खर्चा करने को भी तैयार थे।

birds house

भगवानजी भाई ने ऐसे बर्तन बनाए जो कभी नहीं टूटेंगे और ग्राम पंचायत द्वारा उन्हें दिए गए भूखंड पर अपनी कुशलता के अनुसार काम करना शुरू कर दिया। इसमें बर्तनों को बांधने के लिए स्टील के तारो का उपयोग करके गोल बर्तन रखने के लिए मूल गैल्वेनाइज्ड बोर पाइप से बनी एक सीमा शामिल थी। भगवानजीभाई ने स्वयं और उनके पुत्रों के साथ-साथ ग्रामीणों और दोस्तों ने बर्तनों के डिजाइन के अनुसार बर्तन रखना शुरू कर दिया और 1 साल की मेहनत के बाद ऐसा लगता है कि कड़ी मेहनत सफल रही है।

1 साल की मेहनत के बाद पक्षीघर बनकर तैयार हो गई

भगवानजी भाई ने फर्श ऐसा बनवाया कि वह कभी टूटे नहीं और ग्राम पंचायत द्वारा दिए गए भूखंड में अपनी साधनकुशलता के अनुसार काम शुरू कर दिया। इसमें गोल खंभों को पकड़ने के लिए एक सीमा बनाने के लिए मूल गैल्वेनाइज्ड बोर पाइप शामिल थे, जिसमें खंभों को बांधने के लिए स्टील की सलाखों का उपयोग किया गया था। भगवानजीभाई स्वयं और उनके बेटों के साथ-साथ ग्रामीणों और दोस्तों ने डिजाइन के अनुसार फर्श रखना शुरू कर दिया और 1 साल के अथक परिश्रम के बाद मानो कड़ी मेहनत सफल हुई, अद्भुत 2500 मंजिल का एवियरी बनकर तैयार हो गया, जो गुजरात में पहली मंजिल का एवियरी है।

birds house ke bhagwanjibhai
भगवानजीभाई रूपापरा

इस अद्भुत घर को बनाने का विचार तब आया जब भगवानजी भाई अपने खेत पर बैठे थे और उन्होंने सोचा कि सर्दी, गर्मी या मानसून में, मनुष्य अपने रहने की व्यवस्था करेगा। लेकिन सोच रहा था कि अबोल मुंगा Bird (पक्षी) का क्या होगा, उसके मन में यह विचार आया कि मैं इन मुंगा अबोल Birds (पक्षियों) के लिए कुछ करूँ ताकि वह खेत पर बैठकर अपनी सूची के अनुसार एक आकर्षक डिजाइन बनाकर Birds (पक्षियों) के लिए एक मटके का घर बना सके। Bird House (पक्षी घर) के लिए।

birds house

भगवानजी भाई ने मटकेघर के अंदर Birds (पक्षियों) के लिए अमरनाथ गुफा भी बनाई है, जहां भगवान शिव की स्थापना होगी। यह मंदिर Birds (पक्षियों) के लिए ही बना है। भगवान भाई ने Birds (पक्षियों) के लिए खाने और पानी के लिए बर्तन भी बनाए हैं। यह सब बनाने में उन्होंने 20 लाख रुपये खर्च किए हैं।

Watch Video : Click Here


भगवान भाई के अनुसार मनुष्य सब कुछ अपने दम पर कर सकता है, लेकिन अगर लोग इस अबोल Bird (पक्षी) के लिए गांव-गांव इस तरह का Bird House (पक्षी घर) बनाते हैं तो बहुत कुछ है। इस Bird House (बर्ड हाउस) में 10 हजार से ज्यादा Bird (पक्षी) परिवार आराम से रह सकेंगे।

birds house

शिवलिंग के आकार में बनाया पक्षी घर

भगवानजी भाई ने मतलाघर के अंदर पक्षियों के लिए अमरनाथ गुफा भी बनाई है, जहां भगवान शिव स्थापित होंगे। यह मंदिर केवल पक्षियों के लिए बनाया गया है। भगवानभाई ने चूज़ों और पानी के लिए एक नांद भी बनाया है। ये सब बनाने में उन्होंने 20 लाख रुपए खर्च किए हैं। भगवानभाई के मुताबिक इंसान तो अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर लेगा, लेकिन इस अबोल पक्षी के लिए लोग हर गांव में इस तरह का पक्षी घर बनाएं तो बहुत होगा। इस आकार के पक्षी घर में 10,000 से अधिक पक्षी परिवार आराम से रह सकते हैं।
Previous Post Next Post