TrendzPlay जानिए भगवान के दर्शन के लिए मंदिर जाने का कारण | Trendz Play

सरकारी नौकरी जानकारी ग्रुप Join Now!

जानिए भगवान के दर्शन के लिए मंदिर जाने का कारण




मंदिर का शाब्दिक अर्थ है "घर" और मंदिर को "द्वार" भी कहा जाता है। जैसे रामद्वार, गुरुद्वारा आदि। मंदिर को शिवालय और जिनालय की तरह अलय भी कहा जाता है। मंदिर को अंग्रेजी में "मंदिर" भी कहा जाता है, न कि "टेम्पल"। इसे टेम्पल कहने वाले मंदिर के विरोधी हो सकते हैं। मंदिर में संध्यापासना किया जाता है। संध्यावंदन भी कहा जाता है। संध्या पांच प्रकार की होती है। 1. प्रार्थना, 2. ध्यान, 3. कीर्तन, 4. यज्ञ और 5. पूजा-आरती। ऐसा विश्वास रखने वाला व्यक्ति ऐसा करता है। सभी को अलग-अलग समय दिया गया है।

जानिए भगवान के दर्शन के लिए मंदिर जाने का कारण



धार्मिक ग्रंथ मंदिर जाने और दर्शन करने के कुछ कारण बताते हैं। मंदिर जाने और भगवान के दर्शन करने के लाभ उतने महान नहीं हैं जितने घर पर मिलते हैं। आइए आपको बताते हैं मंदिर में दर्शन के लिए जाने के कारण।

व्यक्ति को किस उम्र में कितना चलना चाहिए? - जानिए यहाँ

मंदिर जाने का पहला कारण

मंदिर जाना जरूरी है क्योंकि वहां जाकर आप साबित करते हैं कि आप दैवीय शक्तियों में विश्वास करते हैं, तो दैवीय शक्तियां भी आप पर विश्वास करेंगी। यदि आप मंदिर नहीं जाते हैं, तो आप कैसे व्यक्त कर सकते हैं कि आप भगवान या देवताओं में विश्वास करते हैं? यदि आप देवताओं पर ध्यान देंगे, तो देवता भी आप पर ध्यान देंगे।

मंदिर जाने का दूसरा कारण

जो व्यक्ति अच्छी मनोवृत्ति के साथ मंदिर जाता है, उसकी सभी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं। मंदिर जाने से मन में विश्वास और आशा की ऊर्जा का संचार होता है। विश्वास की शक्ति से ही धन, समृद्धि, पुत्र-पुत्री की प्राप्ति होती है।

मंदिर जाने का तीसरा कारण

यदि आपने कोई ऐसा अपराध किया है जिसे केवल आप ही जानते हैं, तो यह आपके लिए प्रायश्चित करने का समय है। क्षमा के लिए प्रार्थना करके आप अपने मन को शांत कर सकते हैं। यह आपकी बेचैनी को समाप्त करता है और आपके जीवन को वापस पटरी पर लाता है।

मंदिर जाने का चौथा कारण

मंदिर में शंख और घंटियों की आवाज से वातावरण शुद्ध होता है और मन और मस्तिष्क को शांति मिलती है। धूप और दीपक मन और मस्तिष्क से सभी प्रकार की नकारात्मक भावनाओं को दूर कर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते हैं।

मंदिर जाने का पांचवा कारण

मंदिर की स्थापत्य कला और वातावरण के कारण यहां काफी सकारात्मक ऊर्जा रहती है। प्राचीन मंदिर ऊर्जा और प्रार्थना के केंद्र थे। पृथ्वी के दो सिरे हैं - उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव। पूजा या प्रार्थना उत्तर की ओर मुख करके की जाती है, इसलिए प्राचीन काल में सभी मंदिरों के द्वार उत्तर की ओर होते थे। हमारे प्राचीन मंदिर वास्तुकारों ने पृथ्वी पर ऊर्जा के एक सकारात्मक केंद्र की खोज की और वहां एक मंदिर का निर्माण किया।

मोबाइल स्पीकर की आवाज कैसे बढ़ाये ? ये APP करेगी मदद

मंदिर की एक चोटी है। ऊर्जा तरंगें और ध्वनि तरंगें शिखर की भीतरी सतह से टकराकर व्यक्ति पर पड़ती हैं। ये परावर्तित किरण तरंगें मानव शरीर की आवृत्ति को बनाए रखने में मदद करती हैं। इस तरह व्यक्ति का शरीर धीरे-धीरे मंदिर के अंदर के वातावरण के साथ सामंजस्य बिठा लेता है। इस प्रकार मनुष्य को अनंत सुख का अनुभव होता है। मंदिर भव्य होना चाहिए। महिमा देवत्व का स्रोत है। मंदिर की देखभाल भी जरूरी है।

Note :

Be sure to consult a doctor before adopting any health tips. Because no one knows better than your doctor what is appropriate or how appropriate according to your body


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Disclaimer:
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "जानिए भगवान के दर्शन के लिए मंदिर जाने का कारण"

Post a Comment