TrendzPlay वड़ताल मंदिर Live Darshan | Trendz Play

वड़ताल मंदिर Live Darshan




 वडताल (ता. नडियाद) भारत के पश्चिमी भाग में गुजरात राज्य के मध्य भाग में खेड़ा जिले के कुल 10 (दस) तालुकाओं में से एक नडियाद तालुका का एक गाँव है। वड़ताल गांव के लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि, कृषि श्रम और पशुपालन है। गांव में उगाई जाने वाली मुख्य फसलें मक्का, बाजरा, कपास, दिवेली, तंबाकू, आलू, शकरकंद और अन्य सब्जियां हैं। इस गांव में प्राथमिक विद्यालय, पंचायत घर, आंगनवाड़ी के साथ-साथ दुग्ध डेयरी जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

वड़ताल मंदिर Live Darshan


प्रसिद्ध स्वामीनारायण मंदिर वड़ताल में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण ब्रह्मानंद स्वामी ने भगवान स्वामीनारायण के कहने पर करवाया था।

वड़ताल में रेलवे स्टेशन स्थित है। 14 मील लंबी ब्रॉड गेज रेलवे लाइन 1929 में आणंद और बोरियावी के बीच शुरू हुई जो स्वामीनारायण मंदिर जाने वाले आगंतुकों के लिए फायदेमंद थी।

सहजानंद स्वामी ने संवत-1878 में चैत्र सूद में इस मंदिर का उद्घाटन किया और संवत 1881 के कार्तिक महीने में निर्माण पूरा हुआ। मजदूरों की जगह साधु-सत्संग स्वयं ईंट-चूना उठाकर पकाकर सेवा-भाव से सभी कार्य व निर्माण कार्य करते थे। इस मंदिर की नींव और फुटपाथ में नवलख ईंटों का प्रयोग किया गया है। सहजानंद स्वामी ने स्वयं स्वमस्तक पर 37 ईंटें उठाईं, जिनमें से 35 ईंटें लक्ष्मीनारायण की मूर्ति की निचली सीट (पर्दे) में रखी गई हैं।
वड़ताल में श्री स्वामीनारायण मंदिर श्री लक्ष्मीनारायण देव गादी का मुख्यालय है। यहां भगवान लक्ष्मीनारायण की एक मूर्ति है जिसकी पूजा स्वयं भगवान स्वामीनारायण ने की थी। कमल के आकार में बना यह मंदिर स्थापत्य कला की एक बेमून इमारत है और नौ गुंबद वाले मंदिर को एक अनूठी आभा देता है। यहाँ लक्ष्मीनारायण देव, श्री रणछोड़रायजी, श्री हरिकृष्ण महाराज का मंदिर है।

वड़ताल मंदिर के Live दर्शन करने के लिए यहाँ क्लिक करे

वड़ताल मंदिर का ऐतिहासिक महात्म्य

जब महाराज गढ़डा में थे, वड़ताल के हरिभक्त, जोबन पागी, कुबेरभाई पटेल और रणछोड़भाई पटेल उनसे मिलने गए और उनसे वड़ताल में एक भव्य मंदिर बनाने का अनुरोध किया।

हरिभक्तों की प्रार्थना से संतुष्ट होकर, भगवान स्वामीनारायण ने स्वयं ब्रह्मानंद स्वामी और अक्षरानंद स्वामी से वड़ताल मंदिर डिजाइन करने के लिए कहा। भगवान स्वामीनारायण ने स्वयं ईंटें लीं और वड़ताल मंदिर के निर्माण में कड़ी मेहनत की।

जब मंदिर अंततः विक्रम संवत 1881 में पूरा हुआ, तो सबसे दयालु भगवान श्री लक्ष्मीनारायण देव, श्री रणछोड़राय देव और श्री हरिकृष्ण महाराज (स्वयं महाराज श्री) की मूर्तियों की पूजा स्वयं महाराज ने मंदिर में की थी।
यह प्राणप्रतिष्ठा संवत 1881 के कार्तिक सूद 12 (गुरुवार, 3 नवंबर, 1823) को की गई थी। इसके अलावा एक साल बाद यानी 3 नवंबर, ई. 1824 में, भगवान स्वामीनारायण ने वैदिक मंत्रों का जाप किया और मंदिर में श्री वासुदेव, श्री धर्मपिता और भक्तिमाता की मूर्तियां भी रखीं।

यह पूरा निर्माण कार्य महाराज के आदेशानुसार श्री ब्रह्मानंद स्वामी के मार्गदर्शन में किया गया था। महाराजश्री की कृपा से इस भव्य मंदिर का भव्य निर्माण मात्र पन्द्रह महीनों में पूरा हो गया। इस मंदिर की दीवारों पर रामायण की घटनाओं को दर्शाने वाली रंगीन आकृतियां प्रदर्शित हैं।


Note :

Be sure to consult a doctor before adopting any health tips. Because no one knows better than your doctor what is appropriate or how appropriate according to your body


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Disclaimer:
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "वड़ताल मंदिर Live Darshan"

Post a Comment