अब से ऐसे 10 खामी वाले नोट अयोग्य घोषित कर दिये जायेंगे

आपने अक्सर यह कहावत सुनी होगी कि 'दुनिया पैसे से चलती है।' लेकिन आपने वो कहावत भी सुनी होगी कि 'झूठे सिक्के नहीं चलते।' हां, अगर आपकी जेब में करंसी खराब है तो आपकी जेब बंडलों से क्यों न भरी हो, लेकिन अगर करेंसी खराब है तो यह कागज की बर्बादी है।

unfit currency 10 points

लोगों को करेंसी के प्रति जागरूक करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने सिस्टम में Unfit Currency (अनुपयुक्त करेंसी) की पहचान करने के लिए बैंकों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। रिजर्व बैंक ने अपने दिशानिर्देशों में कहा है कि सभी बैंक हर तीन महीने में अपनी नोट छांटने वाली मशीनों की जांच करें और अनफिट नोटों को चलन से हटाने में सहयोग करें।

Unfit Currency (अयोग्य मुद्रा) क्या है?

RBI (आरबीआई) की भाषा में करेंसी नोट छापते समय कुछ मापदंडों को ध्यान में रखा जाता है। लेकिन वर्षों के उपयोग और लाखों हाथों से गुजरने के बाद इसकी गुणवत्ता खराब हो जाती है। कई बार गलत तरीके से पैसे बचाने के कारण नोट खराब हो जाते हैं, जिसे अनफिट करेंसी कहा जाता है। अक्सर लोग ऐसे नोट लेना बंद कर देते हैं। ऐसी स्थिति में रिजर्व बैंक इन नोटों को बैंकों के माध्यम से वापस लेकर उन्हें नष्ट कर देता है।

Unfit Currency (अयोग्य मुद्रा) के मानक क्या हैं?

आरबीआई ने कहा कि नोट छांटने वाली मशीनें अनफिट नोटों की पहचान करने के लिए डिजाइन की गई हैं। इसलिए बैंकों को इन मशीनों की उचित देखभाल करनी चाहिए। अनफिट नोट वह नोट है जो पुनर्चक्रण के लिए उपयुक्त नहीं पाया जाता है। उनकी शारीरिक स्थिति बहुत खराब है या RBI ने उस श्रेणी को नोट प्रणाली से हटा दिया है।

रिजर्व बैंक ने अनफिट नोट की पहचान उजागर की

आरबीआई के मुताबिक 10 तरीकों से अनफिट नोटों की पहचान की जा सकती है। रिजर्व बैंक ने सॉर्टिंग मशीनों को अनफिट नोटों की पहचान करने के निर्देश दिए हैं। सर्कुलर में आरबीआई ने कहा है कि फिट नोट वह नोट है जो असली और साफ-सुथरा हो, जिसे रिसाइकल किया जा सके।

अगर आपकी जेब में बेकार नोट है तो क्या करें?

यदि आपको कोई ख़राब नोट मिला है और कोई अन्य व्यक्ति इसे स्वीकार करने को तैयार नहीं है, तो आप अपने बैंक में जा सकते हैं और अपने करेंसी नोट को बदल सकते हैं। बैंक ऐसे नोट वापस लेने से इनकार नहीं कर सकते।

खराब नोट की पहचान करने के 10 तरीके

1. एक करेंसी नोट प्रचलन में आने के बाद हजारों से लाखों लोगों के हाथों से होकर गुजरता है। इस दौरान नोट गंदा हो जाता है। कई बार लोग नोटों को गलत तरीके से रख देते हैं, ऐसे में मुड़े हुए नोटों की प्रिंट खराब हो जाती है। ऐसे नोट अमान्य घोषित कर दिए जाते हैं।

2. नोट को लगातार इस्तेमाल करने से उसका कागज मुलायम हो जाता है। बारिश के मौसम में नोट अक्सर ढीला हो जाता है, जिससे उस पर बने उभरे निशान ठीक से पहचाने नहीं जा पाते। ऐसे नोट को अनफिट कहा जाता है।

3. यदि नोट पर बने कुत्ते के कान का क्षेत्रफल 100 वर्ग मिमी से अधिक है और उसका छोटा किनारा 5 मिमी से अधिक है, तो ऐसे नोट को अमान्य घोषित कर दिया जाएगा।

4. रिजर्व बैंक ने साफ किया है कि अगर कोई नोट किनारे से लेकर बीच तक फटा है तो भी उसे अयोग्य माना जाएगा।

5. अगर नोट में 8 वर्ग मिलीमीटर से ज्यादा का छेद है तो भी वह अमान्य माना जाएगा।

6. अगर नोट पर कोई बड़ा दाग या स्याही हो तो भी नोट अमान्य हो जाएगा और चलन से बाहर हो जाएगा।

7. अगर नोट ग्राफ़िक्स में कोई बदलाव होता है। जैसे ही अंक या अंक छोटे या बड़े हो गए हैं, ऐसे नोट अमान्य माने जाएंगे।

8. कुछ लोग नोट को इस्तेमाल करते समय बहुत ज्यादा मोड़ देते हैं। इससे अगर उसकी लंबाई वास्तविक नोट से कम हो जाएगी तो ऐसा नोट भी अयोग्य हो जाएगा।

9. अगर लगातार इस्तेमाल के कारण नोट का मूल रंग अक्सर खराब हो जाता है और कुछ जगहों पर उसकी सतह से रंग गायब हो जाता है या बहुत हल्का हो जाता है, तो ऐसे नोट भी अनुपयुक्त माने जाएंगे।

10. कुछ लोग झल्लाहट वाले नोटों को टेप या गोंद से चिपका देते हैं। ऐसे नोट भी अमान्य हो जायेंगे और चलन से बाहर हो जायेंगे।
Previous Post Next Post