अपने बच्चों को दे पैसे बचाने की टिप्स

Tips To Save Money To Your Children: कम उम्र से ही अगर बच्चों को कड़ी मेहनत और पैसे बचाने का मूल्य सिखाया जाए तो यह कला बच्चों के लिए बहुत उपयोगी है। दरअसल, कई बच्चों के माता-पिता अपने बच्चों की हर बात को प्यार से स्वीकार करते हैं और उनकी हर मांग को पूरा करते हैं।

अपने बच्चों को दे पैसे बचाने की टिप्स



लेकिन आपको बता दें, यह आदत उन्हें आलसी और पैसे की समझ से दूर कर देती है। ऐसे बच्चे न तो धन प्रबंधन को अच्छी तरह सीख सकते हैं और न ही अच्छे योजनाकार बन सकते हैं। तो आइए आज हम आपको बताते हैं कि बच्चों को ये दोनों हुनर ​​सिखाने के लिए आपको क्या करना चाहिए। यहां कुछ पेरेंटिंग टिप्स (Parenting Tips) दिए गए हैं।

बच्चों को पढ़ने लिखने के लिए पा पा पगली बुक करे Download

1. पॉकेट मनी दें

पांच साल की उम्र से बच्चों को पॉकेट मनी दें। उन्हें यह तय करने दें कि वे पैसे का उपयोग कैसे कर सकते हैं। वे समझेंगे कि छोटी और बचत की राशि कैसे बढ़ाई जाए और लागत क्या है। उन्हें बचत खर्च करने का विचार दें।

2. पिग्गी बैंक प्रयोग

अपने बच्चों को एक गुल्लक लाएँ और उन्हें उसमें थोड़ी सी पॉकेट मनी डालने के लिए कहें। हर तीन महीने या छह महीने में एक गुल्लक खोलें और उन्हें बताएं कि आप हर दिन जमा किए गए पैसे से और बड़ी जरूरतों के लिए कितना खर्च कर सकते हैं।

3. बच्चों के साथ मनी गेम्स खेलें

यदि आप वीडियो गेम, मोबाइल आदि के बजाय उनके साथ एकाधिकार जैसे बोर्ड गेम खेलने के लिए समय निकालते हैं, तो वे बचत, धन संबंधी और बजट के बारे में व्यावहारिक रूप से सीख सकेंगे। यह उनके भविष्य में बहुत काम आ सकता है।

4. किराने का सामान लेने के लिए ले जाए

जब भी आप किराने का सामान खरीदने जाएं तो बच्चों को अपने साथ ले जाएं। उन्हें अपना पैसा खर्च करने दें। ऐसे में आप समझ जाएंगे कि बच्चे के पास कितना पैसा है। अगर वे फिजूलखर्ची करते हैं तो आप उन्हें मना सकते हैं।

बच्चे मोबाइल में क्या करते है जानिए Google की इस App से

5. उदाहरण दीजिए

उन्हें व्याख्यान देने से बेहतर है कि उन्हें वित्त और बजट करने का अवसर दिया जाए। उदाहरण के लिए, उन्हें जन्मदिन की पार्टी के बजट के लिए 2,000 रुपये दें और उन्हें सजावट से लेकर भोजन और केक तक सब कुछ खर्च करने दें। इस तरह वे बजट बनाना सीख सकते हैं और बेहतर योजनाकार बन सकते हैं।
Previous Post Next Post