TrendzPlay पुरानी Petrol और Diesel Car को Electric Car में कैसे बदले | Trendz Play

सरकारी नौकरी जानकारी ग्रुप Join Now!

पुरानी Petrol और Diesel Car को Electric Car में कैसे बदले




Petrol और Diesel की बढ़ती कीमतों से देश में Electric Vehicles उद्योग को बढ़ावा मिल रहा है। जहां हर महीने Electric Vehicles की बिक्री के आंकड़े बढ़ रहे हैं, वहीं कई कंपनियां भी इस सेगमेंट में कूद पड़ी हैं। टाटा के मुताबिक, 2025 तक Electric Vehicles की कुल बिक्री में 25 फीसदी हिस्सेदारी होगी। हालांकि Electric Car फिलहाल आम आदमी के लिए काफी महंगी हैं। देश में सबसे ज्यादा बिकने वाली Tata Nexon EV की एक्स-शोरूम कीमत 12 लाख रुपये है। 

Petrol और Diesel Car को Electric Car बनाये







अगर आपके पास कार खरीदने के लिए बजट नहीं है, तो आप अपनी Petrol या Diesel Car को Electric Car में बदल सकते हैं। यह काम Electric Vehicles के पुर्जे बनाने वाली कई कंपनियां कर रही हैं। निर्मित Electric Car पर वारंटी भी दी जाती है। तो आइए इस लेख में आपको बताते हैं कि इस काम में कितना खर्च होता है, कार की रेंज क्या है, Petrol की तुलना में प्रतिदिन कितना खर्च होगा और कितने समय में आपका पैसा वसूल हो जाएगा।

पुराने स्कूटर को इलेक्ट्रिक स्कूटर में कैसे बदले ! जाने यहाँ 

कौन सी कंपनी Petrol और Diesel Car को Electric Car में परिवर्तित करती है?

ईंधन कारों को Electric Car में बदलने वाली अधिकांश कंपनियां हैदराबाद में स्थित हैं। Etriyo और NorthwayMS प्रमुख हैं। दोनों कंपनियां किसी भी Petrol या Diesel Car को Electric Car में बदल देती हैं। आप Wagon R, Alto, Desire, i10, Spark या किसी अन्य Petrol Diesel Car Electric Car में कन्वर्ट कर सकते हैं। कारों में इस्तेमाल होने वाली Electric Kit लगभग सभी में एक जैसी होती हैं। हालांकि रेंज और पावर बढ़ाने के लिए बैटरी और मोटर में अंतर होता है। आप इन कंपनियों की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर संपर्क कर सकते हैं। ये कंपनियां Electric Car भी बेचती हैं।

ईंधन कार को Electric Car में बदलने का खर्च और रेंज

किसी भी सामान्य कार को Electric Car में बदलने के लिए मोटर्स, कंट्रोलर, रोलर्स और बैटरी का इस्तेमाल किया जाता है। कार की कीमत इस बात पर निर्भर करती है कि आप कार में कितनी किलोवाट की बैटरी और कितने किलोवाट की मोटर लगाना चाहते हैं। क्योंकि ये दोनों पार्ट कार के पावर और रेंज से जुड़े हुए हैं। उदाहरण के लिए, 20 kW की Electric Motor और 15 kW की लिथियम आयन बैटरी की कीमत 4 लाख रुपये तक है। इसी तरह अगर बैटरी 22 किलोवाट की है तो इसकी कीमत करीब 5 लाख रुपए होगी।

कार की रेंज इस बात पर निर्भर करती है कि वह कितनी वॉल्ट की बैटरी का उपयोग कर रही है। उदाहरण के लिए, अगर कार में 12 वॉल्ट की लिथियम आयन बैटरी लगाई जाती है, तो यह पूरी तरह चार्ज होने पर लगभग 70 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। इसके अलावा, जब एक 22 kW लिथियम आयन बैटरी लगाई जाती है, तो सीमा 150 किमी तक बढ़ जाएगी। रेंज कम हो या अधिक हो तो मोटर की भूमिका भी महत्वपूर्ण होती है। मोटर ज्यादा पावरफुल होगी तो कार की रेंज कम होगी।

Petrol या Diesel Car को कैसे बनाया जाता है Electric Car

जब कंपनियां एक ईंधन कार को Electric Car में परिवर्तित करती हैं, तो उसके सभी पुराने यांत्रिक भागों को बदल दिया जाता है। इसका मतलब है कि कार का इंजन, फ्यूल टैंक, पावर सप्लाई केबल और दूसरे पार्टनर के साथ-साथ एसी कनेक्शन भी बदल दिए जाते हैं। इन सभी भागों को मोटर, कंट्रोलर, रोलर, बैटरी और चार्जर जैसे विद्युत भागों से बदल दिया जाता है। इस काम में कम से कम 7 दिन लगते हैं। सभी पुर्जे कार के बोनट के नीचे लगाए जाते हैं। साथ ही कार के चेसिस पर बैटरी की परत भी फिक्स होती है। बूट स्पेस पूरी तरह से खाली है। इसी तरह, फ्यूल टैंक को हटा दिया जाता है और इसके कैप पर चार्जिंग पॉइंट लगाए जाते हैं। कार मॉडल को किसी भी तरह से संशोधित नहीं किया जाता है।

पुरानी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में कैसे बदले ! जाने यहाँ 

Petrol की तुलना में Electric Car से बचत

अगर आप Petrol और Diesel Car को Electric Car में बदलने के लिए 5 लाख रुपये खर्च करते हैं। फिर यह 75 किलोमीटर की रेंज देता है तो आपका पैसा 4 साल 8 महीने में रिकवर हो जाएगा। एक Electric Car 74 पैसे में एक किलोमीटर का सफर तय करती है। कंपनी Petrol या Diesel Car को Electric Car बनाने के लिए पांच साल की वारंटी भी देती है। इसका मतलब है कि कार में इस्तेमाल होने वाली किट पर आपको कोई अतिरिक्त खर्च नहीं करना पड़ेगा। कंपनी बैटरी पर पांच साल की वारंटी भी देती है। यानी पांच साल बाद आपको बैटरी बदलनी होगी। इसके अलावा, Petrol और Diesel Car की वार्षिक सेवा भी आपको चुकानी पड़ती है। कंपनी आपको किट और सभी पुर्जों के लिए वारंटी सर्टिफिकेट भी देती है। इसे सरकार और RTO से भी मंजूरी मिल चुकी है।

  • इलेक्ट्रिक कार फुल चार्ज होने में 6 घंटे और 7 यूनिट बिजली खर्च करती है।
  • 1 यूनिट बिजली की कीमत 8 रुपए है, तो सिंगल चार्ज में 56 रुपए खर्च होंगे।
  • यानी 56 रुपए के खर्च में ईवी 75 किलोमीटर की रेंज देती है।

इलेक्ट्रिक कार 74 पैसे में एक किमी तक चलती है। पेट्रोल या डीजल कार को इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली ये कंपनी 5 साल की वारंटी भी देती हैं। यानी आपको कार में इस्तेमाल होने वाली किट पर कोई एक्स्ट्रा खर्च नहीं करना होगा। वहीं, बैटरी पर कंपनी 5 साल की वारंटी देती है। यानी 5 साल के बाद आपको बैटरी बदलने की जरूरत होगी। वहीं, पेट्रोल या डीजल कार में आपको सालाना सर्विस का खर्च भी करना होगा। ये आपको किट और सभी पार्ट्स का वारंटी सर्टिफिकेट भी देती हैं। इसे सरकार और RTO से मंजूरी होती है।
 

Contact Info

Etrio Company Info : Click here 

NorthwayMs : Click here


Note :

Be sure to consult a doctor before adopting any health tips. Because no one knows better than your doctor what is appropriate or how appropriate according to your body


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Disclaimer:
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "पुरानी Petrol और Diesel Car को Electric Car में कैसे बदले"

Post a Comment