आज देश की लगभग 70-80 फीसदी आबादी के पास स्मार्ट फोन है। और लोग इसमें अपनी निजी जानकारी रखने लगे हैं।

और तिजोरी में जैसे ताला लगाते है वैसे ही अब मोबाइलों को भी लॉक किया जा सकता है और अधिकांश लोग अपनी जानकारी को निजी रखने के लिए अपने फोन को लॉक रखते हैं। लेकिन अक्सर आपातकालीन स्थिति में यह लॉक किसी अन्य व्यक्ति द्वारा नहीं खोला जाता है और फिर बहुत देर हो जाती है।

easy trick activate emergency call


और तिजोरी में जैसे ताला लगाते है वैसे ही अब मोबाइलों को भी लॉक किया जा सकता है और अधिकांश लोग अपनी जानकारी को निजी रखने के लिए अपने फोन को लॉक रखते हैं। लेकिन अक्सर आपातकालीन स्थिति में यह लॉक किसी अन्य व्यक्ति द्वारा नहीं खोला जाता है और फिर बहुत देर हो जाती है।

हमारे साथ अक्सर ऐसा होता है कि हमारा फोन खो जाता है या हम कहीं भूल जाते हैं, या रास्ते में हमें चक्कर आते हैं और बेहोश हो जाते हैं और व्यक्ति के हाथ में मोबाइल आता  है। अगर वे मोबाइल वापस करना चाहते हैं या आपकी मदद करना चाहते हैं तो भी वे आपकी मदद नहीं कर सकते।

अब आप घर बैठे अपने मोबाइल से Aadhaar Card से जुड़े 35 कार्य कर सकते हैं

क्योंकि मोबाइल लॉक है और मोबाइल प्राप्त करने वाला व्यक्ति इसे नहीं खोल सकता है, वह मोबाइल में सहेजे गए नंबर पर कॉल नहीं कर सकता है और उस व्यक्ति को कॉल नहीं कर सकता है जो मोबाइल धारक के भाई या बहन है उसे नहीं बता सकता है की मोबाइल धारक का मोबाइल मिला है और वो मुसीबत में है!

इसी तरह की समस्या तब होती है जब फोन धारक के साथ कोई दुर्घटना होती है और उसे अपनी पहचान बताने वक्त ऐसी समस्या होती है।

हाल ही में, अहमदाबाद में एक दुखद घटना हुई, जिसमें दो रिश्तेदार, नयन राम और जयेश राम, जो गुजरात विश्वविद्यालय से बाइक पर थे, जब वे बीआरटीएस की चपेट में आए तो उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

जैसे ही दुर्घटना हुई, वहां भीड़ हो गयी और लोगों ने तुरंत मृतक के फोन के माध्यम से अपने रिश्तेदारों से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन फोन लॉक होने के कारण कोई भी लॉक नहीं खोल सका और युवाओं के परिवार के सदस्यों को सूचित करने में समय लगा।

लेकिन आपातकाल के मामले में भविष्य में ऐसी समस्याओं को रोकने के लिए, हम एक महत्वपूर्ण जानकारी लाए हैं, जो आपको आपातकालीन स्थिति में किसी भी लॉक फोन से फोन धारक के रिश्तेदारों से संपर्क करने में सक्षम बनाएगी।

यह लॉक फोन धारक अपनी जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए भी करता है और इसलिए भी क्योंकि मोबाइल फोन में कुछ एप्लिकेशन उन्हें मोबाइल फोन को लॉक करने के लिए कहते हैं।

जिसे वे नंबर या पैटर्न के आधार पर लॉक करते हैं। और जब संकट का ऐसा समय आता है तो लॉक खोलना असंभव हो जाता है।

स्मार्ट फोन में दी जाने वाली विशेष सेवाओं में से एक इमर्जन्सी कॉल है, लेकिन हम शायद ही कभी उनका उपयोग करते हैं। वास्तव में, यदि आपने इमर्जन्सी कॉल में अपने रिश्तेदारों के नंबर को जोड़ा है, तो आप फोन लॉक होने के बावजूद भी इन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं।

और यहां आप एक नहीं बल्कि पांच-छह नंबर सेव कर सकते हैं। जैसे ही आप इमरजेंसी बटन दबाते हैं, उसमें सेव नंबर का डायलॉग बॉक्स खुल जाता है और उनमें से किसी एक पर टैप करके आप फोन लॉक होने पर भी उनसे संपर्क कर सकते हैं।

ऐसे करें अपने स्मार्टफोन में Emergency call एक्टिव :


Step 1: सबसे पहले फोन को लॉक करें और होम पेज पर आएं।

Step 2: यहां जब फोन को अनलॉक करने की कोशिश करेंगे तो Emergency call का ऑप्शन नज़र आता है, इसे प्रेस करें।

Step 4: Emergency call को टच करते ही की-पैड खुल जाएगी और इसके साथ ही आपको डिसप्ले पर ‘+‘ Emergency Contact यानि एमरजेंसी कॉल में नंबर जोड़ने का ऑप्शन मिलेगा। इसपर टच करें।

Step 5: एमरजेंसी कॉन्टेक्ट नंबर जोड़ने से पहले फोन को अनलॉक करने की कमांड आएगी। अपने अनलॉक पैटर्न या फिंगरप्रिंट से फोन को अनलॉक करें।

Step 6: फोन अनलॉक होने के बाद कॉन्टेक्ट लिस्ट खुलकर आ जाएगी, इसमें से अपने घरवालों या दोस्तों के नंबर को चुन लें।

Step 7: नंबर चुनने के बाद फोन में बैक की दबाएं, यहां Emergency Contact ऑप्शन आ जाएगा और साथ ही आपको वह चुने गए कॉन्टेक्ट भी यहां पर दिखाई देंगे।

Step 8: ये कॉन्टेक्ट नंबर आपकी Emergency Contact लिस्ट में शामिल हो चुके हैं। वहीं साथ ही कई फोन मॉडल में यहां अपनी मेडिकल इंर्फोमेशन भरने का भी ऑप्शन मौजूद होगा। आप चाहे तो ब्लड ग्रुप या किसी बीमारी को जोड़ सकते हैं, जो एमजेंसी के समय मे मददगार साबित होगी।

एक बार Emergency Contact लिस्ट में फोन नंबर शामिल होने के बाद कोई भी व्यक्ति आपका फोन अनलॉक किए बिना ही उन चुने गए लोगों के नंबर पर कॉल कर पाएगा 

ऐसे करें अपने स्मार्टफोन में Emergency call एक्टिव Video 👇👇👇



लॉक मोबाइल से इमरजेंसी कॉल कैसे करें?

Step 1: सबसे पहले आप उस व्यक्ति का फोन लें उसके बाद उसका फोन चालू करें
Step 2: जैसे ही फोन स्विच ऑन होगा, उसका लॉक खोलने के लिए एक पैड होगा, जिसके तहत इमरजेंसी कॉल का भी विकल्प होगा।
Step 3: अब इस इमरजेंसी कॉल पर टैप करें।
Step 4: जैसे ही आप इमरजेंसी कॉल पर टैप करते हैं, शीर्ष पर एक प्लस (+) चिह्न के साथ एक और स्क्रीन खुल जाएगी।
Step 5: जैसे ही आप इस पर टैप करेंगे, मेक एन इमरजेंसी कॉल डायलॉग बॉक्स खुल जाएगा।
Step 6: अब ओके पर टैप करते ही कॉल उसमें सेव नंबर पर चली जाएगी। इस तरह से आप लॉक फोन से भी कॉल कर सकते हैं।

आप जैसा बोलोगे वैसा टाइपिंग होगा इस ऐप में, अभी डाउनलोड करे

लोग आमतौर पर अपने फोन पर अपने जीवनसाथी, भाई-बहनों और बच्चों के "नाम" को सेव करते हैं। और अब कुछ लोग अपने माता-पिता के नाम को भी अलग-अलग तरीके से सेव करते हैं लेकिन वास्तव में इस नाम को इस तरह से सेव किया जाना चाहिए जो आपको आपके रिश्ते को दिखाता है ताकि ऐसी आपात स्थिति में कोई अजनबी आपके रिश्तेदारों से सीधे आपके फोन पर बात कर सके।

यदि मोबाइल फोन ऊपर वर्णित नहीं है या इमरजेंसी कॉल के लिए मोबाइल में कोई नंबर सेव नहीं किया गया है, तो आपको अपने पर्स में एक कार्ड या कागज में अपने रिश्तेदार या उस व्यक्ति का नंबर रखना चाहिए जो आपकी सबसे जल्दी मदद कर सकता है। ताकि आपकी मदद करने वाले व्यक्ति के लिए आपकी मदद करना आसान हो जाए। यह नंबर साफ अक्षरों में लिखा जाना चाहिए।

Note :

Be sure to consult a doctor before adopting any health tips. Because no one knows better than your doctor what is appropriate or how appropriate according to your body


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.trendzplay.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.